चातुर्मास 2020 CHATURMAS 2020चातुर्मास की खबरे एवं जानकारीजैन समाचार

युवाचार्य श्री महेंद्रऋषीजी म. सा. आदी ठाणा 5 का चातुर्मासिक हेतु हुआ दादावाडी में मंगल प्रवेश

अहिंसा क्रांति / अजित भटेवरा

पुणे। परम श्रद्धेय, ध्यानमहर्षि आचार्य सम्राट 1008 प. पु. *श्री शिवमुनिजी म. सा. इनके आज्ञानुवर्ती प्रज्ञा महर्षि श्रमण संघीय युवाचार्य प्रवर प. पु. श्री महेन्द्रऋषिजी म. सा., उपप्रवर्तक प. पु. श्री अक्षयऋषिजी म. सा,  हितमित भाषी प. पु. श्री हितेन्द्रऋषिजी म. सा.,  प. पु. श्री अमृतऋषिजी म. सा,  प. पु. श्री अचलऋषिजी म. सा* आदी ठाणा इनका दि. 27 जून को सुबह 8 बजे स्वाध्याय भवन, गणपती नगर से कोरोना महामारी के बढ़ते प्रभाव को ध्यान  मै रखते हुए सरकार द्वारा निर्देशित सभी नियमों का पालन करते हुए दादावाडी की और प्रस्थान हुआ।

दादावाडी परिसर मे परम पुज्य युवाचार्य प्रवर आदि मुनिवर के स्वागतहेतु संघपति श्री दलीचंदजी जैन, रतनलालजी बाफना, ईश्वरबाबुजी ललवाणी,  अशोकभाऊ जैन, प्रदीपजी रायसोनी, श्री महावीर दिगंबर जीन चैतलाया ट्रस्ट के अध्यक्ष राजेशजी श्रावगी, जलगांव तेरापंथ महासभा के अध्यक्ष माणकचंदजी बैद, जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ के ट्रस्टी प्रदीपजी मुथा,  कस्तूरचंदजी बाफना,  प्रकाशचंदजी समदडिया,  देवीचंदजी छोरिया, अमरजी जैन, मुकेशजी ललवाणी, अजयजी ललवाणी, कंवरलालजी संघवी, सुरेंद्रजी लुंकड़, कांतिलालजी कोठारी, स्वरूपजी लुंकड़, सी. ए. तेजसजी कावडिया,  सुभाषजी सांखला, दिलीपजी झांबड, शांतिलालजी बिनायक्या, ताराबाई डाकलिया, पुष्पाजी ललवाणी, ज्योतीजी जैन, ताराजी रेदासनी, ममताजी कांकरिया, इन सभी मान्यवर के साथ श्री संघके पदाधिकारी एवं युवा साथी मनीष लुंकड़, संजय रेदासनी, श्रेयस कुमट, विजय चोपडा, अजित कोठारी, नरेंद्र बंब, विजय लुणीया, रवि खिंवसरा, संजय भंसाली, विशाल कांतिलाल चोरडीया, विशाल विजयकुमार चोरडिया, जितेंद्र जांगड़ा, परितोष बोथरा, विपीन चोरडिया, स्वप्निल लुंकड़ इनकी प्रमुख उपस्थिती थी।

युवाचार्य श्री ने कहा कि दादावाडी के प्रवेश के बाद, हम जलगाँव के भक्तों की आस्था के साथ सिंचित इस इमारत में वर्षावास 2020 हेतु प्रवेश करते हुवे, बहुत खुशी और अलौकिक अनुभूति का अनुभव कर रहे हैं।दादावाडी में प्रवेश करने के बाद, युवाचार्य प्रवर आदी संत का सौ कांताबाई भवरलाल जैन उपाश्रय यहाँ आगमन हुवा। इस सुवर्णिम अवसर पर सभी संघ प्रमुख द्वारा परम पूज्य गुरुवर का शब्द सुमनों द्वारा स्वागत करके प्रासंगिक मनोगत व्यक्त किया गया।

Related Articles

Back to top button
Close