जैन समाचार

रोगों को मिटाने के लिए योग अपने आप में सर्वोत्तम औषधि है : राष्ट्रसंत कमलमुनि कमलेश

अहिंसा क्रांति न्यूज़ 20 जून 2020


जोधपुर  । जैन स्थानक भवन में योग साधना के माध्यम से आत्मा में सोई हुई अनंत शक्ति को जागृत करके साक्षात परमात्मा के रूप में परिवर्तित किया जा सकता है योग अध्यात्म का असली प्राण है उक्त विचार राष्ट्रसंत कमल मुनि कमलेश ने सरस्वती नगर जैन स्थानक जोधपुर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पूर्व संध्या पर संबोधित करते कहा कि विश्व के सभी धर्मों ने अपने-अपने ढंग से योग को उपासना पद्धति का अभिन्न अंग बनाते हुए स्वयं ने अपनाया और जनता से भी आवान किया। मुनि कमलेश ने स्पष्ट कहा कि रोगों को मिटाने के लिए योग अपने आप में सर्वोत्तम औषधि है योग  आत्मा को निर्मल और शरीर को स्वस्थ बनाता है   

    जैन संत ने कहा कि योग मात्र एक दिवस के लिए नहीं है ऑक्सीजन की भांति दैनिक क्रियाओं के साथ इसे जोड़ना होगा डिप्रेशन मानसिक तनाव सहित असाध्य रोगों पर विजय पाई जा सकती है            राष्ट्रसंत ने कहा कि कोरना वायरस जैसी महामारी से लड़ने की क्षमता उस को पराजित करने के लिए योग में अनंत शक्ति है प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है     

   उन्होंने कहा कि आध्यात्मिक भारतीय जीवन शैली पद्धति कि हर क्रियाओं में उठना बैठना खाना-पीना चलना योगा से परिपूर्ण है योग को अंतरराष्ट्रीय घोषित होना पुनः विश्व गुरु की ओर स्थापित होने के समान है जोधपुर संघ के अध्यक्ष सुकन्या धारीवाल उपाध्यक्ष गुणवंत राज मेहता उपाध्यक्ष सुरेश पारक महामंत्री सुनील चोपड़ा कोषाध्यक्ष सुरेश गोलेछा प्रतिनिधिमंडल ने गुरु भगवंत का आत्मीय स्वागत किया  सरस्वती नगर के प्रमुख प्रकाश छाजेड़ सुरेश भंसाली ज्ञानचंद दर्डा महामंत्र के जाप मैं भाग वालों का आभार व्यक्त किया घनश्याम मुनि अरिहंत मुनि कौशल मुनी  ने जाप का आयोजन किया 21 जून को सूर्य ग्रहण पर विशेष जाप का आयोजन रखा गया है। 

Related Articles

Back to top button
Close