जैन प्रवचन jain pravchanजैन समाचार

सत्य कड़वा हो सकता पर सत्य ही परमात्मा है — प्रवर्तक सुकन मुनि

पर्युषण महापर्व के दूसरे दिन—

AHINSA KRANTI NEWS

16अगस्त शास्त्रीनगर सत्य ही परमात्मा है इंसान जानकर भी अंजान बनकर  रहा है मृत्यु ही एकमात्र सत्य है जबकि मानव देह केवल मोक्ष प्राप्ति के लिए धारण कराईं गई है अहिंसा भवन शास्त्रीनगर में  श्रमणसंघीय प्रवर्तक सुकन मुनि म,सा ने  पर्युषण महापर्व के दितीय दिवस धर्मचर्चा करते हुयें कहें और कहां की सत्य  कड़वा हो सकता है परन्तु सत्य अहिंसा के मार्ग पर चलकर ही   परमात्मा को आसानी से पाया जा सकता है हितेश मुनि ने कहां की किताबों को पढ़ने व रटने से  सत्य का ज्ञान नहीं हो सकता मन वचन से सत्य बोलने पर ही मानव को सत्य का ज्ञान  हो सकता है

वरूण मुनि ने अंतकृत दंशा सूत्र वाचन करते हुये कहां की झुट ज्यादा समय तक इंसान के जीवन मे ठीक ने वाला नहीं है सत्य को भीतर उतारे तभी सत्य ज्ञान हो पायेगा !अहिंसा भवन के मन्त्री रिखबचन्द्र पीपाड़ा ने बताया की अखिल भारतीय स्थर पर बुध मिश्री रूप गुरू प्रतियोगिता आयोजन राष्ट्रीय महिला जैन कॉन्फ्रेंस  की महामंत्री लाड़ मेहता तथा वैय्यावच्च की राष्ट्रीय अध्यक्षा संजुलता बाबेल व संघठन मंत्री निर्मला भड़क्तिया द्वारा अहिंसा भवन मे आयोजित की गई थी जिसके प्रथम दितीय व तृतीय विजेताओं पुरूस्कार तथा स्मृति चिन्ह देकर राष्ट्रीय महिला जैन कॉन्फ्रेंस  पदाधिकारियों द्वारा सम्मानित किया गया !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close