चातुर्मास 2020 CHATURMAS 2020चातुर्मास की खबरे एवं जानकारीजैन समाचार

जहाज मंदिर में चातुर्मास की प्रक्रिया प्रारंभ

स्वाध्याय पाठन का हुआ शुभारंभ।

AHINSA KRANTI NEWS

मांडवला। श्री जिनकान्तिसागरसूरि स्मारक ट्रस्ट एवं जहाज मंदिर चातुर्मास समिति 2020 द्वारा जहाज मंदिर के विशाल परिसर में खरतरगच्छाधिपति आचार्य जिनमणिप्रभसूरीश्वर महाराज एवं आचार्य जिनमनोज्ञसूरीश्वर महाराज आदि 8 संतों के सानिध्य में चातुर्मास की विधिवत प्रक्रिया प्रारंभ की गई।
सोमवार दोपहर में संपन्न स्वाध्याय सभा में चातुर्मास के विविध आध्यात्मिक आयोजनों की रूपरेखा गच्छाधिपति आचार्य ने रखी। इन्हीं आयोजनों की पुष्टि करते हुए आचार्य जिनमनोज्ञसूरीश्वर महाराज ने कहा कि 3 दशक बाद हो रहे इस भव्य चातुर्मास में स्वाध्याय में डूबना है, इसी स्वाध्याय से हमें परमात्मा का विलक्षण स्वरूप समझ में आएगा।


आचार्य जिनमनोज्ञसूरीश्वर महाराज ने बताया कि सम्पूर्ण साधनाओं की प्रक्रिया स्वाध्याय एवं तपश्चर्या के द्वारा तन और मन को चरित्र निर्माण में प्रवृत्त करती है। चरित्र विकास की खुशबू न केवल हमें वरन् हमारे परिवार और समाज को भी गौरव प्रदान करती है। हमें अपने जीवन को मुक्ति मार्ग पर चलने हेतु स्व-प्रेरणा से निरन्तर जिन आज्ञा पालन हेतु तत्पर रहना चाहिए तथा मनुष्य जीवन को इनके अभाव में परम्परागत पापों के दलदल में फंसने से बचाना चाहिए।
ज्ञातव्य है कि दोनों प्रमुख आचार्य भगवंत जिनकांतिसागरसूरि के शिष्य हैं। जो विगत 47 वर्षों से संपूर्ण भारत में धर्म प्रभावना कर रहे है। आचार्य जिनमनोज्ञसूरि महाराज ने छत्तीसगढ और जैसलमेर, सांचोर के ग्रामीण क्षेत्रों में विचरण कर अलख जगाई है तो जिनमणिप्रभसूरीश्वर महाराज ने बाडमेर जोधपुर जालोर को अपना विचरण क्षेत्र बनाया।
सोमवार से दोपहर में शासकीय आदेशों की पालना करते हुए स्वाध्याय पाठन का शुभारंभ किया गया। जिसका जीवंत प्रसारण विविध सोशियल माध्यम से भी किया जा रहा है। यह जानकारी प्रकाश छाजेड ने दी।

Related Articles

Back to top button
Close