जैन समाचार

कोरोना मुक्ति का आध्यात्मिक उपाय का आगाज

अहिंसा क्रांति / रमेश छाजेड़
जोधपुर। सवा करोड़ उवसग्गहरं स्तोत्र आलेखन पोथी* का विमोचन विनीत जी कोठारी न्यायाधीश चेन्नई हाइकोर्ट,दलबीरसिंह जी डढ़ढा उपनिदेशक निगम जोधपुर संभाग  ,समाज के अग्रणी सोहनलालजी टाटिया एवं प्रकाशजी जीरावला ने करके इस उत्सव का आगाज किया ।
   उवसग्गहरं स्तोत्र जिसकी रचना 2300वर्ष पूर्व पूज्य भद्रबाहु स्वामी द्वारा महामारी से उबरने के लिए की गयी थी ,आज के इस करोना काल मे करोना से उबरने के लिए गुरुभगवंतो ने इसको सवा करोड़ बार लिखने की  युक्ति बताते हुए यह नारा दिया *घर घर आराधना घरपर आराधना* और *आराधना की आराधना और महामारी हटाने की साधना* दिया।इस चातुर्मास में किसी भी तरह की सामूहिक आराधना न हो पाने के कारण घर पर आराधना के साथ करोना मुक्ति की साधना हो जाएगी।
 भगवान श्री पार्श्वनाथ मंदिर समिति के सचिव रंगलाल सालेचा ने बताया कि इस पुस्तक का वितरण पूरे शहर के हर क्षेत्र में कराने की व्यवस्था की जा रही है।

Related Articles

Back to top button
Close