जैन समाचार

पार्श्वनाथ विधान  के  साथ  चढाया  निर्वाण लाडू

AHINSA KRANTI NEWS
बनेठा*:- टोंक  जिले  उनियारा  के उपतहसील मुख्यालय  बनेठा  में  जैन  समाज के  तत्वाधान में  श्रावण  सुदी सप्तमी को मोक्ष सप्तमी  या  पार्श्वनाथ निर्वाण महोत्सव  महावीर  दिगम्बर  जैन  मंदिर में  बड़े हार्षोल्लास के  साथ  मनाया  गया ! कार्यक्रम में  प्रात: काल  की  शुभ बेला  में बौली लगाकर  मूल वेदी  से भगवान पार्श्वनाथ की  प्रतिमा  को  रजत  सिंहासन  पर बैठाकर  श्रद्धालुओं  द्वारा  वैदिक  मंत्रोच्चार  से भगवान  की शांतिधारा  की  गई ! कार्यक्रम  का  शुभारम्भ  मंगलाचरण से  किया  गया ! इस  अवसर  पर सम्पूर्ण जैन  मंदिर परिसर पार्श्वनाथ भगवान  के  नारो  से  गुंजायमान  हो गया ! तत्पश्यात् विश्व  शांति  के लिए  मंदिर  परिसर  में  शांतिपाठ व  नित्य  नियम  के  साथ  पूजा  अर्चना  की  गई !
साथ  ही जैन  समाज के  अध्यक्ष  व  मंत्री  की  मौजुदगी  में  समाज  द्वारा निर्वाणकांड भाषा  बोलकर श्याम वर्णी पार्श्वनाथ भगवान के  चरणो में  निर्वाण  लड्डू चढाया  गया ! समाज  प्रवक्ता  हरीश  पांडय़ा  ने  बताया  कि इस दिन  खास  तौर  पर  बालिकाएं निर्जला  उपवास  करती है ! दोपहर में चन्द्रप्रभु  जैन  मंदिर  में  महिला  मंडल द्वारा  टोंक  स्थित  विशुध्द मति  माताजी  की  शिष्या  विराटमति  माताजी की  संलेखना  पर  दो मिनिट  का  मौन  रखकर भावभिनी   श्रद्धांजली  दी !  बाद में  मंदिर प्रांगण  में आचार्य  विद्यासागर  व  मुनिपुंगव  सुधासागर  महाराज  के  शुभाशीष से पार्श्वनाथ मंडल विधान का  आयोजन  किया  गया ! जिनमे   पंडित  रजनीश  शास्त्री  ने  मधुरधुन  में कार्यक्रम  को प्रस्तुत किया ! शास्त्र  प्रवचन  में  बताया  गया कि तीर्थंकर  भगवान पार्श्वनाथ का  चरित्र क्षमा  की  प्रतिमूर्ती हैं ! उनके  जन्म  के दस  भवों से  कमठ का  जीव प्रत्येक  भव  में क्रोध , हिंसा  की  परकाष्ठा पर  जा  पहुँचा , परंतु पार्श्वनाथ भगवान हर भव में उसे  क्षमा  करते गए ! शाम  को  जैन श्रद्धालुओं द्वारा  सामुहिक  आरती  की  गई ! इस  अवसर  पर  जैन  समाज के कई  लोग  मौजूद  थे !

Related Articles

Back to top button
Close