चातुर्मास 2020 CHATURMAS 2020चातुर्मास की खबरे एवं जानकारीजैन समाचार

घाटकोपर में मुनि श्री रणजीत कुमार जी स्वामी का हुआ चातुर्मासिक प्रवेश

अहिंसा क्रांति / सुरेन्द्र मुणोत       

मुम्बई।   घाटकोपर में आचार्य श्री महश्रमण जी के आज्ञानुवर्ती मुनि श्री रणजीत कुमारजी स्वामी ठाणा-३ का मंगल प्रवेश प्रातः 8:40 बजे की शूभ बेला में हुआ ,सम्पूर्ण कार्यक्रम में नियमानुसार  सोशल डिस्टेंसिग का पालन किया गया। मुनि श्री रणजीत कुमारजी स्वामी ने अपने उद्बोधन में कहा की घाटकोपर श्रावक समाज धर्मसंघ के प्रति निष्ठावान तो है ही साथ साथ कार्यकर्ताओं की खान है घाटकोपर। मुनि श्री अनिकेत कुमार जी ने अपने उदगार व्यक्त किए व मुनि श्री कौशल कुमार जी ने अपनी गीतिका से सबको मंत्रमुग्ध कर दिया।तेयुप घाटकोपर की नवगठित कार्ययकर्णी को श्री महाश्रमण चातुर्मास व्यवस्था समिति 2023 अध्यक्ष श्रीमान मदनलाल तातेड़ व श्री भिक्षु समाधि सिरियारी स्थल संस्थान के अध्यक्ष श्रीमान ख्यालीलाल तातेड़ ने शपथ दिलाई,श्री तुलसी अमृत महाविद्यालय गंगापुर के अध्यक्ष श्री बाबूलाल कच्छारा द्वारा श्रावक निष्ठा पत्र का वाचन किया गया।

मुंबई सभा अध्यक्ष श्री नरेन्द्र तांतेड, मुंबई महिला मंडल अध्यक्षा श्रीमती भाग्यश्री कच्छारा,मुंबई ज्ञानशाला आंचलिक संयोजिका श्रीमती सुमन चपलोत, अखिल भारतीय तेरापंथ महिला मंडल पूर्व अध्यक्षा श्रीमती कुमुद कच्छारा, मनोहर गोखरू,चन्द्रप्रकाश बोहरा, मुंबई सभा सहकोषाध्यक्ष हस्तीमल डांगी ,तेयुप पूर्व अध्यक्ष राकेश बड़ाला व पूर्व मंत्री श्रवण चोरड़िया, महिला मंडल घाटकोपर संयोजिका भावना चपलोत ने अपने भाव व्यक्त किए। 

  मुंबई सभा उपाध्यक्ष सुरेश राठौड़,संपत चोरड़िया, अणुव्रत समिति मुम्बई अध्यक्ष श्री रमेश चौधरी, घाटकोपर ट्रस्ट अध्यक्ष श्री ख्यालीलाल मादरेचा, चांदमल सोलंकी ,महिला मंडल घाटकोपर सह संयोजिका रेखा मेहता, शांतिलाल सोलंकी,विनोद कच्छारा, विनोद बड़ाला, बाबूलाल बड़ाला,मोड़ीलाल दुगड़, ख्यालीलाल बड़ाला, दिलीप तातेड़,ललित बाबेल,  प्रकाशदेवी तातेड़,पुष्पा मादरेचा आदि की उपस्थिति रही ।             नवनिर्वाचित घाटकोपर तेयुप अध्यक्ष संजय सोनी ने स्वागत भाषण व मंत्री राजेश सिंघवी ने आभार व्यक्त किया,उपाध्यक्ष धनराज डांगी ने कार्यक्रम का कुशल संचालन किया, कार्यक्रम का फेसबुक पर लाइव प्रसारण किया गया सम्पूर्ण तेयुप टीम का इस कार्यक्रम को सफल बनाने में विशेष योगदान रहा।

Related Articles

Back to top button
Close