Uncategorised
Trending

भद्दलपुर नगर में 20 साल वाद होने जा रहा मुनि श्री का आगमन

मध्यप्रदेश अहिंसा क्रांति /ब्यूरो चीफ देवांश जैन

विदिशा(भद्दलपुर) ः संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि श्री समता सागर जी महाराज एवं ऐलक श्री निश्चय सागर जी महाराज का विदिशा आने के संकेत मिलने पर इस कोरोना काल में खुशियां व्याप्त हो गई है।


प्रवक्ता अविनाश जैन ने वताया मुनि संघ ने आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज के दर्शनो उपरांत लगभग छै माह से खातेगांव में विराजमान है। सोमवार को विदिशा से श्री शीतल विहार न्यास के अध्यक्ष  वसंत जैन के नेतृत्व में न्यास एवं  सकल दि. जैन समाज समिति के पदाधिकारियों ने मुनि श्री को संघ सहित विदिशा नगर में पधारने हेतु श्री फल भेंट किये एवं आशीर्वाद प्राप्त किया  

उक्त मौके पर  न्यास के पूर्व अध्यक्ष निरंजन पाटनी कोषाध्यक्ष मोहन जैन महामंत्री सनत जैन समाज के महामंत्री शेलेंद्र चौधरी वड़ू मुनिसेवक संघ के  सुनील मेंमसाव, वरिष्ठ सदस्य  रविन्द्र जैन, राजीव वांसल, सुनील सिंघई, संजय मामा, स्वामिल पाटनी ने खातेगांव पहुंच कर मुनि श्री को श्री फल अर्पित कर विदिशा पधारने का अनुरोध किया।

इस अवसर पर मुनि श्री ने नगर के सभी श्रद्धालुओं को आशीर्वाद देते हुये कहा कि आचार्य श्री का आशीर्वाद विदिशा वालों को हमेशा मिलता रहा है, हालांकि 20 साल पहले मेरा विदिशा आना जाना खूव रहा है।इस कोरोना काल में आप लोग संयम के साथ सरकार द्वारा गाईड लाईन के आधार यंहा से विदिशा की और विहार चातुर्दशी के उपरांत करेंगे।

उन्होंने खातेगांव की जैन समाज को आशीर्वाद देते हुये कहा नेमावर तीर्थ से आचार्य श्री के साथ आने के उपरांत यंही पर ही लगभग छै माह का समय धीरे धीरे निकल गया। उन्होंने अध्यक्ष जम्वूकुमार सेठी सहित सभी कार्यकर्ताओं को आशीर्वाद प्रदान करते हुये उनकी भूरी भूरी प्रशंसा की।

कार्यक्रम का संचालन अविनाश जैन ने करते हुये विदिशा से गये सभी सदस्यों का परिचय कराते हुये कहा कि विदिशा नगर में परम पूज्यगुरूदेव समतासागर जी महाराज के अगवानी के संकेत समाचार से ही खुशियाँ व्याप्त है। एवं आगामी 8 जून तक मुनि श्री का विहार खातेगांव से विदिशा की ओर सरकारी गाईड लाईन के अनुसार विदिशा की ओर सम्भावित है। लगभग 200 कि. मी. की यह पद यात्रा कर 18 जून तक विदिशा नगर में आने की सम्भावना हैं।

ज्ञातव्य रहे विदिशा नगर में श्री शीतल विहार की स्थापना मुनि श्री के आशीर्वाद से सन्1992 के चातुर्मास के दौरान हुई थी।एवं उदयगिरि स्थित श्री शीतल विहार न्यास स्थल पर सन्2000 में मुनि श्री प्रमाण सागर जी महाराज एवं ऐलक श्री निश्चयसागर जी महाराज के साथ चातुर्मास हुआ था उसी दौरान ललित पुर के एक श्रावक श्रैष्ठी श्री उत्तम चंद जी की सल्लेखना हुई थी।

तदुपरांत मुनि श्री महाराष्ट्र एवं राजस्थान में प्रवास रहा एवं 2019 में वांसवाड़ा राजस्थान से आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के दर्शन करने हेतु लगभग ९०० कि. मी की पदयात्रा २० दिन में पूर्ण कर नेमावर मध्यप्रदेश पधारे थे। एवं आचार्य श्री का वंहा से विहार हुआ उसके उपरांत खातेगांव में ही विराजमान है।चातुर्दशी के उपरांत गुरु देव की आज्ञानुसार विहार शीध़ विदिशा की ओर 8जून के आस पास खातेगांव से विहार हो सकता है। 

~ब्यूरो चीफ देवांश जैन (विदिशा) मध्यप्रदेश

Related Articles

Back to top button
Close