चातुर्मास 2020 CHATURMAS 2020चातुर्मास की खबरे एवं जानकारीजैन समाचार

मुनि श्री108 प्रबल सागरजी महाराज का 650 किमी का विहार करके भातकुली मे होगा प्रवेश

अनंत शाह /अहिंसा क्रांति न्यूज

भातकुली/अमरावती। गुरुदेव जो चलते फिरते तीर्थ स्वरूप ऐसे गुजरात के और पूरे भारत भर के हर एक छोटे गांव से लेकर बड़े शहर तक जिनके असंख्य भक्त है ऐसे और अनेक प्राचीन तीर्थ उद्धारक
मेवाड़ रत्न गिरनार उपसर्ग विजेता, प्राचीन तीर्थ उद्धारक, जैन जनगणना प्रेरक मुनि श्री 108 प्रबलसागर जी महाराज द्वारा कोरोना काल मे लगभग 2 महीने 1 सप्ताह से अधिक समय अमरकंटक (सर्वोदय तीर्थ, मध्यप्रदेश) में साधनारत रहकर विश्व जन मंगल की कामना करने के पश्चात 4 जून को भातकुली,महाराष्ट्र के लिए लगभग 650 किलोमीटर के लिए विहार हो चुका है यह तीर्थस्थान पर ही गुरुदेव के चतुर्मास शंभवित है


हर्ष का विषय है कि मौसम की अनुकूलता के अनुसार महाराज श्री ने लगभग 165 किलोमीटर का ” मण्डला (म० प्र०) तक का” विहार संपूर्ण* कर लिया है। मंडला शहर के श्री शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर जी में 2 दिन के प्रवास एवं विश्राम के अंतर्गत *मंडला जैन समाज के धर्मबंधुओं ने संपूर्ण उत्साह से मुनि श्री की सेवा एवं दोनों दिन प्रवचन का लाभ लिया पौड़ी लिंगा से मंडला की ओर विहार करते समय *मुनि श्री ने हथकरघा केंद्र एवं गौशाला केंद्र का भी अवलोकन किया साथ ही गौशाला केंद्र पर की आहार चर्या की गुरुदेव 650 किलोमीटर का विहार बहुत ही सुखमय और तंदुरुस्त हो ऐसी सभी भक्तगण की प्रार्थना है

Related Articles

Back to top button
Close