जैन प्रवचन jain pravchanजैन समाचार

मानवता डूब गई तो फिर धर्मस्थल के ताले कौन खोलेगा : आचार्य दिव्यांनंद सुरीश्वर (निराले बाबा) 

AHINSA KRANTI NEWS
रतलाम (मध्यप्रदेश) ।  राष्ट्र संत, डाॅक्टर, जैनाचार्य श्री दिव्यानंद सूरीश्वर जी महाराज साहब( निराले बाबा जी) ने निर्माणाधीन , नवनिर्मित हो रही दिव्यानंद निराले बाबा पशु पक्षी हॉस्पिटल के विशाल परिसर में भक्त जनों को प्रेरणा देते हुए कहा कि  संत माली बनकर मानवता के बगीचे को मान अपमान की परवाह न करते हुए धर्मस्थल की चार दीवारी से बाहर निकलकर महापुरुषों के ज्ञान से सिंचित करें तभी विश्वकल्याण संभव है जैनाचार्य निराले बाबा ने  कहा कि यदि संत धर्म स्थल की चार दीवारों में कैद रह गए और मानवता डूब गई तो फिर धर्मस्थल के ताले कौन खोलेगा उन्होंने कहा कि लाखों संत होने के बावजूद भी हिंसा आतंकवाद लूट भ्रष्टाचार मिलावट अनैतिकता का नंगा नाच सबके लिए एक चुनौती है  नैतिकता का दिवाला।
आध्यात्मिकता की दुहाई देने वालों के मुंह पर करारा तमाचा है। निराले बाबा  ने कहा कि सभी धर्म आचार्यों को आपस में समन्वय स्थापित करके न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाना चाहिए शिक्षा चिकित्सा नशा बेरोजगारी से मानव समाज को मुक्ति मिले।  निराले बाबा  ने कहा   कि उपासना पद्धति को ही धर्म की इतिश्री मान लेना गौर अज्ञानता है उपासना पद्धति साधन है इसके माध्यम से कर्तव्य का पालन बोध होना चाहिए।  राष्ट्रसंत ने कहा कि धर्म के माध्यम से नशा मुक्ति राष्ट्रीय एकता विश्व शांति पर्यावरण रक्षा अहिंसा प्रेम सदभाव का संदेश भी मानव मात्र के अंदर पहुंचना चाहिए । इस दौरान झकनावदा से भक्तों की टोली गुरु दर्शन वंदना के लिए पधारें जिसमें मनीष कुमट- झकनावदा को दिव्यानंद निराले बाबा पशु पक्षी हॉस्पिटल के सदस्यों ने इस वर्ष 2020 के समन्वय साधनामय चातुर्मास का मीडिया प्रभारी बनाया । गुरुदेव निराले बाबा जी बताया कि सैलाना के विमल जी भण्डारी जो कि यहाँ के सभी समाचार पत्रों में  समाचार भेजने का कार्य श्रद्धा और समर्पण के साथ कर रहे है । जिससे मीडिया के द्वारा भक्त जनों को निराले बाबा जी के संदेश को जन जन तक पहुंचाया जा सके । सभी सदस्यों ने गुरुदेव जी के आदेश को स्वीकार करके सहमति दी। झकनावदा से पधारे शुभम कोटडिया, कुनाल कास्वा, रायपुरिया से कीर्ति जैन । उज्जैन से महेश जैसवाल, राकेश शर्मा, पुष्पेन्द्र,  प्रीतेश शर्मा, पुष्प सैलाना से गजेन्द्र गोखरू, लोकेन्द्र गहलोत, मुकेश मालवीय, अशोक लोढा, रजत डोशी, पंकज जोशी ,शिव कुमार शर्मा रतलाम से रिषभ पावेचा , गर्भित गोखरू, लक्की संचेती आदि भक्त जनों ने खुशी प्रकट करी । प्रतिदिन माता श्री पद्मावती देवी की भव्य आरती करने का पुण्य भक्त गण ले रहे हैं । आरती शाम को 7:15 पर प्रारंभ होती ।

Related Articles

Back to top button
Close