जैन प्रवचन jain pravchanजैन समाचार

जिन शासन में सभी व्यक्तियों के लिए धर्म आराधना की अलग-अलग पद्धतियां है : उपाध्याय भुवन चंद्र जी महाराज

अहिंसा क्रांति न्यूज़ 04 जुलाई 2020


जैसलमेर। स्वर्ण नगरी जैसलमेर में चातुर्मासिक चतुर्दशी से प्रारंभ वर्षावास के प्रथम दिवस आत्म वल्लभ सभा भवन में प. पू.उपाध्याय प्रवर भुवन चंद्र जी महाराज साहब द्वारा व्याख्यानमाला के अंतर्गत सर्वप्रथम मंगलाचरण किया गया । उपाध्याय प्रवर ने कहा कि कोरोना काल प्रकृति की कठोरता में से एक है । इस समय का सदुपयोग  धर्म आराधना करके किया जा सकता है । जिन शासन में सभी व्यक्तियों के लिए धर्म आराधना की अलग-अलग पद्धतियां है  |

जिसे जो पद्धति उचित लगे उस आधार पर वह अपनी जघन्य से उत्कृष्ट धर्म आराधना कर सकता है  जिन शासन में हर वर्ग,हर व्यक्ति,यहां तक की जीव मात्र के लिए परमात्मा ने मुक्ति मार्ग प्रशस्त किया है , उपाध्याय प्रवर ने कहा कि धर्म विहीन व्यक्ति जीवित होते हुए भी मृत के समान हैं ,  अतः जीवन में जितनी आवश्यकता प्राण वायु की है उतना ही धर्म आवश्यक है ,  जहां अच्छाई होती है उसके आसपास अच्छाई का ही वास होता है , जिस प्रकार खिले हुए फूल पर भ्रमर,तितलियां  एवं  अन्य पंछी  मंडराते हैं जबकि कांटो के आसपास  कोई जाना भी पसंद नहीं करता | जिनशासन  जीवन जीने की शैली है | अपने जीवन को किस प्रकार से  उत्कृष्ट बनाना है यही  परमात्मा का मार्ग है | 

जिस प्रकार  हमें  समुद्र किनारे,बगीचे में  मन की प्रसन्नता की अनुभूति होती है,उसी प्रकार  हमारे भीतर  धर्म का वास होने पर  प्रत्येक परिस्थिति में  प्रसन्नता का अनुभव  होगी | साध्वी निरागयशा श्री जी महाराज साहब ने बालक बालिकाओं को पूर्ण ईमानदारी से घर में रहकर आराधना कार्ड भरने हेतु प्रेरित किया | सरकारी नियमानुसार मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए आयोजित कार्यक्रम में साध्वी चारु यशा श्री जी महाराज साहब आदि ठाणा 8 की उपस्थिति के साथ श्रावक श्राविकाएं मौजूद थी | प्रभावना का लाभ ज्ञानचंद भूरचंद डूंगरवाल परिवार ने लिया |चातुर्मासिक चौदस पर आयम्बिल तप की आराधना  मैं  महिलाओं में  लक्ष्मी राखेचा के साथ  6 महिलाओं ने  वह पुरुषों में  महेंद्र भाई बाफना नेआयम्बिल तप किया आज की प्रभावना में  चेन्नई निवासी  श्रीमती मंजू  अशोक जी परमार  द्वारा  की गई एवं सायं को चौमासी प्रतिक्रमण किया गया ।

Related Articles

Back to top button
Close