जैन गुरु
Trending

जैसे आप नहीं मरना चाहते तो,औरों के मरण में भी निमित्त मत वनो-मुनि श्री प्रमाण सागर जी महाराज

मध्यप्रदेश अहिंसा क्रांति/ब्यूरो चीफ देवांश जैन


सागर-कोरोना महामारी की उत्पत्ति में जीवहत्या को प्रमुख कारण माना जा रहा है, इस संसार में प्रत्येक जीव अपने प्राणों की रक्षा चाहता है, यदि तुम सुख चाहते हो,  शांती चाहते हो, जीना चाहते हो तो संसार के वह सभी जीव भी सुख शांती और जीना चाहते हैं।

मुनि श्री ने कहा कि जैसे आप नहीं मरना चाहते तो,औरों के मरण में भी निमित्त मत वनो। मुनि श्री प्रमाण सागर जी महाराज कहते है कि जिस दिन तुम सव जीवों को अपने समान देखना शुरू कर दोगे तो तुम्हारे अंदर अहिंसा स्वतः आ जाएगी।

उन्होंने कहा कि जब तुम किसी को जीवनदान नहीं दे सकते तो उनको मारने का हक तुम्है किसने दिया? उन्होंने कहा कि तुम अपने आपसे प्रेम करो और अपने आपको जानो जिस दिन तुम अपने आपको जानने लगोगे।तो स्वतः संसार में सभी जीवों से तुम्हारे अंदर प्रेम उत्पन्न हो जाऐगा, और आपके अंदर संवैदना उत्पन्न हो जाएगी।

विदिशा जैन समाज के प्रवक्ता अविनाश जैन ने शंकासमाधान के माध्यम से मुनि श्री से प्रश्न करते हुये कहा कि एक वी. डी. ओ वायरल हो रही है जिसमें हजारों की संख्या में कोरोना के डर से मुर्गी के अंडे सड़क पर फैके उन अंडों से हजारों की संख्या में चूजे  उन अंडों से निकलकर वाहर आ रहे है।

मुनि श्री ने जबाब देते हुये कहा कि यह वात सत्य है कि यह कोरोना की वीमारी से आज पूरा विश्व जूझ रहा है। हम सभी के जीवन में अहिंसा आना चाहिये। कहते हें यह वीमारी चायना से प्रारंभ जीव हत्या के फलस्वरूप उत्पनन हुई है जो लोग अंडा को शाकाहारी कहते है उन सभी को यह वात जान लैना चाहिये अंडा शाकाहारी नहीं हैं। यह वात वैज्ञानिक भी सिद्ध कर चुके हैं। 

कोरोना के कारण हुये लांक डाऊन से सभी जरूरत मंद लोगों के लिये भोजन के पैकेट एवं नगर में सभी जानवरों के लिये  हुये हरे चारा की व्यवस्था श्री सकल दि. जैन समाज विदिशा की ओर से की जा रही हैं।

जिससे विदिशा नगर में सभी जरूरत मंदों को भोजन मिल सके। कोई भी जीव भूखा न रहे। सभी के सहयोग से प्रतिदिन हराचारा नगर के सभी चौराहे पर डलवाया जाएगा। उपरोक्त व्यवस्था  में शैलेंद्र चौधरी, पुष्पेंद्र जैन, एवं सुधीर नगर पालिका ने व्वयस्था को सम्हाल रखा है।

ब्यूरो चीफ देवांश जैन (विदिशा) मध्यप्रदेश

Related Articles

Back to top button
Close