चातुर्मास 2020 CHATURMAS 2020चातुर्मास की खबरे एवं जानकारीजैन समाचार

आचार्य अजितशेखर सुरीश्वर म.सा का हुआ चिकपेट में चातुर्मासिक मंगल प्रवेश


अहिंसा क्रांति न्यूज़


बैंगलोर। श्री आदिनाथ जैन श्वेताम्बर मूर्तिपूजक संघ, चिकपेट मे सुबह 9:00 बजे गुरुदेव आचार्य भगवंत श्री अजितशेखरसूरीश्वरजी म.सा. आदि ठाणा का सामैया के साथ सोहन हॉल उपाश्रय में बहुत ही आनंद और शांति के साथ सादगीपूर्ण तरीके से प्रवेश हुआ। प्रवेश के दौरान सरकारी नियमों का पालन करते हुए बहुत ही सीमित संख्या में श्रावक श्राविकाओं की उपस्थिति थी। साथ में अक्किपेट में चातुर्मास करने हेतु पधारे हुए आचार्य भगवंत श्री हीरचंद्रसूरीश्वरजी म.सा. भी पधारे। स्वागत भाषण में प्रकाशचंद राठौड़ ने कहा कि संघ की पिछले कई वर्षों की विनंती से आज वे शुभ घड़ियां प्राप्त हुई हैं।


गुरुदेव के पास ज्ञान का अनमोल खजाना हैं। कई ज्ञानवर्धक पुस्तकों की रचना भी की हैं। कई ज्ञान  भंडार भी समृद्ध किये हैं। संघ के अध्यक्ष ने कहा कि जो भी पुस्तकें प्रकाशित होगी, उसका लाभ संघ को मिलना चाहिए। 
आचर्य श्री हीरचंद्रसूरीश्वरजी म.सा ने प्रवचन में कहा कि यह चातुर्मास स्वयं के द्वारा, स्वयं की खोज करके, सब के साथ जीवन को सार्थक करना हैं।


आचार्य श्री अजीतशेखरसूरीश्वरजी म.सा. ने   प्रवचन में एक प्रेरक प्रसंग की बात बताई कि एक बहन जो समाज सेविका थी, उसने अपने पास अपने खर्चे का ब्यौरा 3 बुक में लिखती थी। तीनों बुक के रंग अलग अलग थे – सफेद, लाल और काला। किसी ने जब इसका कारण पूछा तो बताया कमाने का काम तो उसके पतिदेव करते हैं पर खर्चा वह करती हैं जो इन बुक्स में लिखती हैं। सफेद बुक में सुकृत और अच्छे कामों का खर्चा, लाल बुक में अपनी जरुरियात का खर्चा और काली बुक में शौक मौज के खर्चे लिखती हैं। उद्देश्य यह हैं कि सफेद बुक का खर्चा दिन ब दिन बढ़ते रहें, काली बुक में ज़ीरो हो जाए और लाल बुक के खर्चों को कम कर सके। इसी तरह हम भी चातुर्मास में अपने समय का सफेद बुक में बढ़ोतरी करें, काली बुक में ज़ीरो करें और लाल बुक में कम करें। समय का सदुपयोग ज़रूरी हैं।


आचार्य श्री अजीतशेखरसूरीश्वरजी म.सा. ने कहा कि लॉकडाउन में घर-घर अपने परिवार के साथ घर को मंदिर बनाना है। भाव पूजा और प्रभु के प्रति श्रद्धा, निष्ठा और आस्था को मजबूत बनाना हैं। घर-घर में पूरे परिवार के साथ धर्म आराधना करने से परिवार में पुण्य बढ़ता हैं और इस महामारी की परिस्थिति में कई किताबों के लेखन के कार्य चल रहे हैं, जिनका जल्दी से विमोचन किया जाएगा। 
सहसचिव गौतम सोलंकी ने गुरुदेव के प्रति आभार व्यक्त किया एवं संघ के ट्रस्टी कमलेश बोहरा, वस्तीमल पालगौता, आदी उपस्थित थे सभी ने धन्यवाद दिया।

Related Articles

Back to top button
Close