जैन समाचार

श्री चंद्रप्रभु दि. जैन मन्दिर को संरक्षण व जीर्णोद्धार की आवश्यकता

नीम का थाना (सीकर) मे

अहिंसा क्रांति न्यूज़ / जे.पी. जैन लालास


सीकर। सीकर से 45 K.M दूर नीमकाथाना मे एक प्राचीन श्री  चंद्रप्रभु दि. जैन मन्दिर है  वर्तमान मे जैन समाज न होने के कारण उपेक्षित पडा़ है यह मन्दिर कुछ समय पहले अतिक्रमण का शिकार होते-होते बच गया था। अहिंसा क्रांति के सूरत के ब्यूरो चीफ जे.पी.जैन लालास वाले ने बताया कि किसी अज्ञात व्यक्ति से समाचार मीला समाचार मीलते ही  सीकर की एक टिम आशिष जयपूरीया ( मोनू) के साथ नीमकाथाना पहुची पूरे मन्दिर का निरिक्षण किया व पुरी जानकारी ली बताया जाता है की ईस मन्दिर मे 175 वर्ष पुरानी अतिशयकारीश्री चंद्रप्रभु भगवान प्रतिमा है

इस प्रतिमा को तीन-चार बार यहा से ले जाने की भी चेष्टा की गई  लेकीन ये एक दो बार तो प्रतिमा वहा हिली ही नहीं वह एक बार जिसने प्रतिमाले जाने का विचार किया उनका एक्सीडेंट हो गया ऐसा सूनने मे आया ऐसा सूनने वह निरीक्षण करने के पश्चात जो टीम सीकर से  गई थी उसने विचार किया की मंदिर का जीर्णोद्धार शीघ्र ही कराना चाहिए।जीर्णोद्धार व संरक्षण के लिए वात्सल्य धाम सेवा समिति रेवासा के अध्यक्ष आशीष जयपुरिया व उनकी पूरी टीम के मार्गदर्शन वह राजकुमार जी कोठारी जयपुर राजकुमार जी सेठी जयपुर जयप्रकाश जी काला (जे.पी )लालास वाले सूरत सौरभ जी बजाज भोपाल संजय जी पाटनी सूरत की प्रेरणा से वात्सल्य सेवा समिति रेवासा ने इस मंदिर के जीर्णोद्धार व संरक्षण का बीड़ा उठाएगा यह सभी कार्य सभी के सहयोग से ही संपन्न हो सकेगा। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close