breaking news मुख्य समाचारJain Newsजैन प्रवचन, जैन धर्म, जैन ज्ञानजैन साधू, जैन मुनि, जैन साध्वी

ज्ञान से ही पद मिलता है और पद से पावर व पैसा – मुनिराज डॉ सिद्धरत्नविजय

गच्छाधिपति श्री ने दिया दीक्षा व प्रतिष्ठा का मुहर्त 


पिपलौदा – गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी म.सा.ने दीक्षा व प्रतिष्ठा का मुहर्त प्रदान किया । नगर के श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम पर चल रहे पावनिय चातुर्मास महोत्सव में उपधान तप व नवपद ओली के आराधक नित्य धार्मिक क्रियाए कर कठोर तपस्या में लीन है वही प्रतिदिन दूरदराज क्षेत्र से ग्रामीणजन व श्री संघ पहुँचकर प्रवंचन का श्रवण कर दर्शन लाभ ले रहे है।प्रवचन के दौरान मुनिराज डॉ सिद्धरत्न विजय जी म.सा.ने चल रही नवपद ओली आराधना के सातवे दिवस ज्ञान पद के बारे बताते हुए कहा कि ज्ञान पद में 51 गुण होते है जिसको सभी क्रियाओ में करना होता है व इसका वर्ण सफेद होता है ज्ञानावर्णीय कर्म का श्रय करने के लिए ज्ञान पद “ॐ हीं नाणस्स”पद की माला गिनने व तप आराधना करने से ज्ञान की वृद्धि होती है आत्मा का मौलिक गुण ज्ञान है ज्ञान आत्मा के लिए कितना आवश्यक है उसका स्पष्टीकरण आगमों में यह कहकर किया है “पढमं नाणो तओ दया” अर्थात प्रथम ज्ञान और बाद में अहिंसा, व्रत, नियम आदि। ज्ञान के बिना अहिंसा का स्वरूप समझ न आने से आत्मा हिंसा को भी अहिंसा धर्म मान सकती है जैसे यज्ञ में बलि देना।

ज्ञान ही आत्मा को कृत्या कृत्य का ज्ञान करवाता है। जैनागमों में धर्म को सूक्ष्म बुद्धि से करने का विधान किया है। स्थूल बुद्धि से किया जाने वाला धर्म अधर्म के खाते में चला जाता है। महावीर परमात्मा की आज्ञा को स्वीकार कर ज्ञान एवं ज्ञानी को अशातना से जितना बचा जा सके उतना बचकर आराधक भाव को अखण्डित रखना यही ज्ञान-ज्ञानी की आराधना है ज्ञान से ही पद मिलता है और पद से पावर व पैसा। आगे बढ़ने के लिए कुछ अलग करने की ललक होनी चाहिए अर्थात दृढ़ इच्छाशक्ति होनी चाहिए ।मुनिराज तारकरत्न विजय जी म.सा.द्वारा आत्म भावना प्राथर्ना करवाई। मुनिराज श्री विद्वदरत्न विजय जी म.सा.,मुनिराज प्रशमसेन विजय जी म.सा.,मुनिराज श्री  निर्भयरत्न विजय जी म.सा.साध्वी श्री भाग्यकला श्री जी म.सा. आदि ठाणा उपस्थित थे। 
श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम प्रचार सचिव प्रफुल जैन ने बताया कि सर्वप्रथम प्रातः में झमकलाल चेतन बाबेल परिवार द्वारा गहुली की गई साथ ही बाबूलाल दोसी परिवार द्वारा दादा गुरुदेव व पूण्य सम्राट की आरती उतारी गई साथ ही झमकलाल बाबेल परिवार,दीक्षार्थी बहन परिवार व बाबूलाल मणिलाल परिवार डिसा द्वारा प्रभावना वितरित की गई।शुकवार को डिसा,नागदा,रेवतड़ा, नेनावा,मद्रास,रतलाम आदि श्री संघ के प्रतिनिधि पहुचे व गच्छाधिपति श्री व साधु साध्वी भगवंत के दर्शन लाभ लिए


दीक्षा व प्रतिष्ठा का दिया मुहर्त – गच्छाधिपति श्री द्वारा मुमुक्षु चाँदनी बेन को दिक्षा का मुहूर्त प्रदान किया गया चांदनी बेन की दीक्षा 28 नवम्बर 2019 को अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद की भूमि भाभरा नगर जिला अलिराजपुर मध्यप्रदेश में होगी भाभरा श्री संघ सचिव वीरेंद्र बोहरा ने भाभरा नगर में 24 से 29 नवंबर तक आयोजित सभी आयोजन में पधारने का अनुरोध किया। 24 नवंबर को पूण्य सम्राट का जन्मोत्सव मनाया जावेगा व गच्छाधिपति श्री व साधु साध्वी भगवंत का भव्य मंगल प्रवेश होगा यहां पांच दिवसीय सुविधिनाथ जिनालय व गुरु मंदिर की प्रतिष्ठा का आयोजन भी होगा। मुमुक्षु बहन का श्री संघ व महिला परिषद व उपधान आराधक मंडल द्वारा बहुमान किया गया साथ ही श्री शंखेश्वर दर्शन विहार धाम डिसा गुजरात मे बने शस्त्र फणा श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ मन्दिर जी का प्रतिष्ठा का शुभ मुहर्त 13 फरवरी 2020 का प्रदान किया लाभार्थी रमीला बेन1 बाबूलाल मणीलाल दोसी परिवार बी. एम.शाह डिसा परिवार ने सामूहिक रूप से गच्छाधिपति श्री आदि ठाणा के दर्शन वन्दन कर मुहूर्त प्राप्त किया व सभी श्री संघ से प्रतिष्ठा में पधारने की विनती की। श्री संघ अध्यक्ष बाबूलाल धींग द्वारा सभी लाभार्थियो व अतिथियों के साथ राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी ब्रजेश बोहरा का बहुमान किया गया। संचालन चातुर्मास प्रभारी राकेश जैन व वाटिका उपाध्यक्ष शिखर बोहरा ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close