जैन समाचार

आचार्य श्री महाश्रमण जी के शासन काल में 3 महीने में दूसरा मासखमण

AHINSA KRANTI NEWS

बैंगलोर। आचार्य श्री महाश्रमण जी के आज्ञानुवर्ति उग्रविहारी तपोर्मूति मुनि श्री कमलकुमार जी के सहयोगी मुनि श्री नमी कुमार जी के आज 26 सितम्बर* को 30 की तपस्या  (मासखमण) का प्रत्याख्यान मुनि श्री कमल कुमार जी से आज किया। शांतिनगर बैंगलोर के इस चातुर्मास में इनका यह दूसरा मासखमण है। इस अवसर पर विजयनगर में विराजित *साध्वी डा मंगल प्रज्ञा जी की सहवर्तनी साध्वी श्री सुदर्शन प्रभा व साध्वी श्री शोर्यप्रभा जी विजयनगर से विहार करके शांतिनगर पधारे, एवं मुनि श्री नमी कुमार जी के तप की अनुमोदना की। 70 वर्षिय मुनि नमी कुमार जी को तेरापंथ धर्म में दीक्षा लिए सवा चार वर्ष हुए हैं। वर्तमान की विषम परिस्थितियों में भी बैंगलोर में इस छठे मासखमण के प्रत्याख्यान के अतिरिक्त 6,10,12,13 व 14,15 की तपस्या के थोकड़े कर चुके हैं।

इस तप अनुमोदना मेमुनि श्री रणजीत कुमार जी  मुनि श्री दिनेश कुमार जी  मुनि श्री चैतन्य कुमार जी मुनि श्री अर्हत  कुमार जी ,शासन श्री साध्वी कंचन प्रभाजी,साध्वी अणिमा श्री जी, साध्वी डाक्टर मंगलप्रज्ञा जी नंगाव असम से ललिता बोथरा, चिकमगलूर से जयप्रकाश जी गादिया, बैंगलोर के विमल जी श्यामसुखा,तनसुख जी बैद अरविंद जी बैद, रतनचंद श्री श्रीमाल आदि के गीत कविता संदेश प्राप्त हुए। सूरत से मुनि श्री नमि कुमार जी के संसार पक्षीय पुत्र अशोक जी  एव हरीश जी  आये व तप अनुमोदना की मुनि श्री के मासखमण तप अनुमोदना में शांतिनगर वासियों द्वारा उपवास बेला, तेला, चौला पंचोला व दस पचखाण की तपस्या से मुनि श्री के तप की अनुमोदना की।

मुनि श्री नमि कुमार जी ने कहा पूज्य गुरुदेव के आशीर्वाद वह मुनि श्री कमल कुमार जी स्वामी की प्रेरणा से मुनि अमन कुमार जी के सहयोग से तपस्या हो रही है। मुनि अमन कुमार जी ने मुनि श्री दिनेश कुमार जी के प्राप्त गीत का संगान कर तप अनुमोदना की।मुनि श्री कमल कुमार जी स्वामी ने स्वरचित मुक्तक व गीत से मुनि नमि कुमार जी के तप की अनुमोदना कि वह मास खमणतप का प्रत्याख्यान करवाया। इस अवसर पर मुनि श्री ने मुनि नमि कुमार द्वारा किए गए तपों का उल्लेख करते हुए श्रावक समाज को भी कोरोना काल में ज्यादा से ज्यादा तप जप व स्वाध्याय करने की विशेष प्ररेणा दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close