जैन समाचार

अहिंसा दिवस पर हैदराबाद के ज्ञानार्थियों की मनमोहक प्रस्तुति

AHINSA KRANTI / RAJENDRA BOTHRA

हैदराबाद। अहिंसा यात्रा प्रवर्त्तक, शान्तिदूत आचार्य श्री महाश्रमण के पावन सानिध्य में अणुव्रत विश्व भारती के मंच तले अणुव्रत उद्बोधन सप्ताह के अंतिम दिन आज  अहिंसा दिवस आयोजित किया गया।   यहाँ जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, आचार्य श्री महाश्रमण चातुर्मास व्यवस्था समिति के तत्वावधान में महाश्रमण वाटिका, शमशाबाद में अहिंसा दिवस- गांधी जयंती के उपलक्ष्य में अणुव्रत समिति, हैदराबाद के निर्देशन में ज्ञानशाला विभाग, हैदराबाद द्वारा मनमोहक मंचीय प्रस्तुति दी गई।

ज्ञानशाला के नन्हें-मुन्ने ज्ञानार्थियों द्वारा *सभी धर्मों का एक संदेश- अमन, शांति, भाईचारे का सूत्र- अहिंसा* इस विषय पर भगवान महावीर, गौतम बुद्ध, ईसा मसीह, पैगम्बर मोहम्मद , महात्मा गांधी, आचार्य श्री तुलसी और आचार्य श्री महाश्रमण के संदेशों को प्रचारित किया गया।

अहिंसा के इन संदेशवाहकों का जीवंत अभिनय कर त्रेता युग से वर्तमान युग में भी अहिंसा की शाश्वत प्रासंगिकता व महत्व को दर्शाया गया। प्रवचन सत्र के दौरान आयोजित इस कार्यक्रम में इन किरदारों को निभाने वाले ज्ञानार्थियों के नाम हैं- पार्थ पटावरी, आरव मालू ,  युवान बोहरा, अर्हम् धाड़ेवा, सिद्धार्थ भूतोड़िया, संचित सुराणा, प्रभात बैंगानी, रेयांश नखत, निकुंज बोथरा। कार्यक्रम के सूत्रधार की भूमिका रिद्धि और भव्य श्रीमाल ने निभाई। कविता के माध्यम से धृति दुगड़ ने मानव धर्म और अहिंसा की सार्थकता बयान की।

संयोजिका के रूप में ज्ञानशाला की क्षेत्रीय संयोजक सीमा जी दसाणी, क्षेत्रीय सह-संयोजक संगीता गोलछा, सरिता नखत व मीडिया टीम सहयोगी प्रियंका दुगड़ ने अपना दायित्व निभाया। अणुव्रत उद्बोधन सप्ताह के मुख्य संयोजक के रूप में इस कार्यक्रम के लिए ज्ञानशाला की तेलंगाना-आंध्रा आंचलिक संयोजक अंजू जी बैद का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close