जैन प्रवचन jain pravchanजैन समाचार

प्रकृति में रोगों को मिटाने के लिए प्रतिरोधक क्षमता विद्यमान है : राष्ट्रसंत कमलमुनि कमलेश

AHINSA KRANTI NEWS
जोधपुर 8 जुलाई 2020  महावीर भवन नेहरू पार्क। प्रकृति से दूर रहकर भौतिकवाद की चकाचौंध में रहने वाला व्यक्ति  रोगों का शिकार होता है प्रकृति की गोद में रहने पर प्रकृति में रोगों को मिटाने के लिए प्रतिरोधक क्षमता विद्यमान है उक्त विचार राष्ट्र संत कमलमुनि कमलेश ने कोरना मुक्ति विश्व निर्माण के लिए अपने संदेश में कहा कि पुरानी कहावत है सो दवा एक हवा शुद्ध हवा पानी मिट्टी और आहार अपने आप में औषधि का काम करता है
           उन्होंने कहा कि हम आंखों से देख रहे हैं कोरोनावायरस महामारी ने शहर और महानगरों को ज्यादा चपेट में लिया है इसका मुख्य कारण वहां के लोगों का प्रकृति से दूर होना
             राष्ट्रसंत ने स्पष्ट कहा कि भौतिक साधनों और विलासिता में डूबने पर प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है उसमें जुझारू पन संघर्ष के परमाणु का निर्माण नहीं होता है शरीर में
          जैन संत ने बताया कि पशु पक्षी और ग्रामीण जनता के अंदर कोरोनावायरस का असर नहीं के बराबर है वह भी थोड़ा बहुत शहरों से पहुंचा है और जल्दी ठीक भी हो जाते हैं
         मुनि कमलेश से कहा कि कोरोनावायरस हवा के साथ गुल कर सभी तक पहुंच रहा है इसको रोकने और दूर करने के लिए अदम्य साहस निर्भीक और निडरता के विचार निर्मित करने होंगे प्रत्येक व्यक्ति को अपने मन मंदिर में तभी जंग जीत पाएंगे नियमों का कड़ाई से पालन करना अपनी सुरक्षा कवच को मजबूत करने के समान है
        अखिल भारतीय जैन दिवाकर विचार मंच ने दिल्ली में पूरे देश में कोरोना मुक्ति के लिए भक्ति योग साधना एवं प्रकृति के साथ रहने का प्रशिक्षण दे रहे हैं कौशल मुनि अशोक मुनि ने योग के लिए बताएं ऑनलाइन के माध्यम से जनता प्रवचन का लाभ ले रही है

Related Articles

Back to top button
Close